गंगा, राम गंगा तथा गर्रा नदियां खतरे के निशान से नीचे बह रही हैः-जिलाधिकारी

वर्तमान में नदियों का जलस्तर लगातार घट रहा हैः-जिलाधिकारी

17 स्थापित बाढ़ चौकियों में 56 स्वास्थ्य कर्मियों को तैनात किया गया हैः-अविनाश कुमार

हरदोई। । जिलाधिकारी अविनाश कुमार ने बताया है कि जनपद में गंगा, राम गंगा तथा गर्रा नदियों में आयी बाढ़ से निपटने के लिए प्रशासन की ओर से व्यापक तैयारियां की गयी है।

प्रशासनिक अधिकारी निरन्तर बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में जाकर स्थिति का जायजा ले रहे है। सवायजपुर व बिलग्राम तहसील के 128 प्रभावित गॉवों में कुल 13200 प्रभावित लोगो को खाद्यांन्न/पके भोजन के पैकेट वितरित किये गये है। सभी प्रभावित 128 गॉवों में दवा/स्वास्थ्य कैम्प सक्रिय है। सुगम आवागमन हेतु 21 नावों/स्टीमर की व्यवस्था की गयी है। तहसीलों से प्राप्त आख्या के अनुसार कुल 9516.075 हे0 क्षेत्रफल प्रभावित हुआ है। 32वी वाहिनी पीएसी की आपदा राहत प्लाटून की सवायजपुर में 01 व बिलग्राम तहसील में 01 टीम को लगाया गया है। सिंचाई विभाग द्वारा निरन्तर बाढ़ की स्थिति की समीक्षा की जा रही है। विभाग के अनुसार गर्रा नदी का वर्तमान जल स्तर 145.90 मीटर है जो कि अपने रेडमार्क लाईन 148.80 से नीचे है। स्थिति नियंत्रण में है। कहार टोला के तटीय क्षेत्र में आवासित ग्रामीणों को प्रशासन द्वारा विद्यालय में विस्थापित किया गया है। राम गंगा नदी का आज का जलस्तर 136.90 मीटर है जोकि अपने रेडलाइन मार्क से 20 सेमी0 नीचे है। वर्तमान में नदी का जलस्तर लगातार घट रहा है। राजघाट में गंगा नदी का जलस्तर 125.25 मीटर है, जोकि अपने रेडलाइन मार्क से नीचे है।

उन्होने बताया है कि स्वास्थ्य विभाग की ओर से 10 चिकित्सकीय दल व 10 सचल चिकित्सकीय दल बनाये गये है। कुल 17 स्थापित बाढ़ चौकियों में 56 स्वास्थ्य कर्मियों को तैनात किया गया है, जिनके द्वारा आज 443 रोगियों का उपचार किया गया। कुल 88 लोगो को ओआरएस पैकेट वितरित किये गये, तथा 250 क्लोरीन की गोली वितरित की गयी, साथ ही एक गॉव में कीटनाशक का छिड़काव किया गया। आज मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 सूर्यमणि त्रिपाठी ने स्वास्थ्य व्यवस्था का निरीक्षण किया। पशुपालन विभाग की ओर से बाढ़ से पूर्व भी भरखनी, हरपालपुर, साण्डी, बिलग्राम, माधौगंज व मल्लावां में संक्रामक रोग से बचाव हेतु पशुओं के शत प्रतिशत टीकाकरण का कार्य करा दिया गया था, जिसमें कुल 146000 पशुओं का टीकाकरण किया गया है। इसके साथ ही वाह्य तथा अन्तःपरजीवी से बचाव हेतु दवा तथा टीकाकरण किया गया है। जलप्लावन क्षेत्र में स्थिति के नियंत्रण हेतु क्षेत्र में पशु चिकित्साधिकारी, पशुधन प्रसार अधिकारी, पैरावेट वेटनरी स्टाफ एवं चतुर्थ श्रेणी की टीम गठित कर प्रभावित क्षेत्रों में डयूटी लगा दी गयी है। टीमों के पास सभी आवश्यक दवाई एवं वैक्सीन है, तथा टीम सतत् भ्रमणशील है। इसके साथ ही 300.4 कु0 भूसा वितरण कर दिया गया है एवं लगभग 1580 पशुओं का उपचार भी किया जा चुका है। बाढ़ में किसी भी सहायता के लिए गांधी भवन में बाढ़ नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है जिसका टेलीफोन नम्बर 05852-234448, 234629 हैं।

About graminujala_e5wy8i

Check Also

मल्लावां में एसपी ने दल – बल के साथ किया मॉक ड्रिल , अराजक तत्वों पर रखी जाएगी नज़र

  हरदोई मल्लावां ।। लोक सभा चुनावों को लेकर पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में दंगा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *