डीएससीएल शुगर मिल हरियावां स्थानीय नागरिकों के लिए बनी बवाल ए जान


आधा सैकड़ा लोगों की आंखें हो रही खराब आस पास के गांवों की आबादी हो रही प्रभावित
गरम राख खुले में डालने से दर्जनों बच्चे झुलसे,गरीबी लाचारी के चलते ग्रामीण नही कर रहे शिकायत
जिला प्रशासन कर रहा शिकायत का इंतजार

अरविंद तिवारी

हरियावां हरदोई। सूबे कि सरकार भले ही आम जनमानस को किसी भी तरह की बीमारियों से बचाने के लिए जहां केंद्र सरकार के सहयोग से कई योजनाएं चलाकर लोगों को जागरूक भी कर रही हैं।वही हरदोई जनपद की हरियावा में स्थित डीएससीएल शुगर मिल खुले आम लोगों की जान की दुश्मन बनी हुई है। जिससे उड़ने वाला धुआं डस्ट जहां लोगों को आंखों की बीमारियां बांट रही है। वहीं फैक्ट्री की लापरवाही के चलते अंदर से निकले निकलने वाली गरम खोही सड़क किनारे खुले में डाल दी जाती है जिसके चलते मिल से लगे अकबरपुर गांव के कई बच्चे पूरी तरह झुलस चुके हैं।लेकिन इन सबके बावजूद जहां मिल प्रशासन लापरवाह है।तो वहीं जिला प्रशासन भी इस ओर ध्यान देना नहीं चाहता स्थानीय स्तर पर डीएससीएल शुगर मिल के बगल में ही प्राथमिक विद्यालय स्थित है।जिस में मौजूद अध्यापकों से बात करने पर उन लोगों ने बताया कहने को तो कंपनी के मैनेजमेंट ने प्राथमिक विद्यालय को गोद लिया है।लेकिन यह पूरी तरह अव्यवस्थाओं का बोलबाला है।और फैक्ट्री से निकलने वाली गंदगी के बीच बैठकर बच्चों को पढ़ाना भी मुश्किल है।जिससे हम लोगों को ही नहीं बच्चों को भी खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। कई बार लिखित व मौखिक शिकायत करने के बावजूद विभागीय व फैक्ट्री के जिम्मेदार पूरी तरह मूकदर्शक बने हुए और इस ओर ध्यान देना नहीं चाहते इस संबंध में अकबरपुर ग्राम पंचायत जो कि शुगर मिल से बिल्कुल लगी हुई है।वहां ग्रामीणों से बात करने का प्रयास किया गया तो कुछ ने तो कैमरे पर बोलने से इसलिए इनकार कर दिया कि उन लोगों की रोजी-रोटी उसी शुगर फैक्ट्री से चलती है। और अगर वह लोग कैमरे पर बोल देंगे तो शायद उन लोगों की रोजी-रोटी भी चली जाए जिसके डर से कुछ लोग तो बोलने को तैयार नहीं थे लेकिन इस गांव की महिलाओं ने फैक्ट्री व जिला प्रशासन पर जमकर हमला बोला और बीमारियां बांट फैक्टरी प्रशासन को लगातार कोस रहे हैं।स्थानीय नागरिकों की माने तो लगभग 12 सौ की आबादी वाला यह गांव जिसमें लगभग आधा सैकड़ा लोग दमा श्वास की बीमारी से पीड़ित है।कई बच्चे फैक्ट्री की लापरवाही के चलते झुलस गए हैं।जिनका इलाज चल रहा है।और इस पूरे मामले में जिला प्रशासन से बात करने पर जिला अधिकारी अविनाश कुमार ने बताया इस संबंध में ग्रामीण शिकायत करेंगे तभी कार्रवाई करेंगे अब सवाल यह उठता है।लोगों की जान की कितनी कीमत है।हरदोई जिले के जिला प्रशासन की नजर में यह किसी से छिपा नहीं है। लापरवाही की हद पार कर हरदोई जनपद का प्रशासन योगी सरकार के दिशा निर्देशों की धज्जियां उड़ा रहा है।वहीं सूत्र बताते हैं कि जिला प्रशासन व मिल प्रबंधन के बीच खाऊ कमाऊ नीति के चलते आम जनमानस की जान से लगातार खिलवाड़ किया जा रहा है।अब देखना यह होगा कि जिला प्रशासन किस तरह इस गांव के लोगों को फैक्ट्री से मिलने वाली बीमारियों से छुटकारा दिलाएगा या इसी तरह लोग काल के गाल में समाने को मजबूर होते रहेंगे।

About graminujala_e5wy8i

Check Also

ब्लॉक स्तरीय कृषक जागरूकता गोष्ठी का आयोजन- सांसद विधायक रहें मौजूद

*कछौना, हरदोई।* कृषि सूचना तंत्र के सुदृढ़ीकरण एवं कृषक जागरूकता कार्यक्रम योजना प्रमोशन आफ एग्रीकल्चर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *