मो रफ़ी की 41वीं पुण्यतिथि पर उनके ही नग़मे गाकर दी गई भावभीनी श्रद्धांजलि

हरदोई।शहरों के नामी गायकों ने सुरों के सरताज मो रफ़ी की 41वीं पुण्यतिथि पर उनके ही नग़मे गाकर भावभीनी श्रद्धांजलि दी।
प्रधानमंत्री जन कल्याण योजना कला एवं सांस्कृतिक प्रभाग के तत्वावधान में महान गायक मोहम्‍मद रफ़ी की 41वीं पुण्‍यतिथि पर प्रभाग के पदाधिकारियों एवं कार्यक्रम में सम्मिलित मशहूर गायकों द्वारा श्रद्धांजलि दी गई। 31 जुलाई 1980 के दिन उन्हें तीन हार्ट अटैक आए थे और इलाज के दौरान ही उनका निधन हो गया था। सुरों की दुनिया के इस बेताज बादशाह ने अपने गीतों से कई पीढ़ियों को प्रभावित किया।वे हर तरह के गीत गाते थे एवं उनमें खो जाया करते थे और आज भी उनके नग़में ,युवा ,एवं बुजुर्ग सभी के जुबां पर रहते हैं।
कार्यक्रम संयोजक मनोज अग्रवाल ने बताया कि रफ़ी साहब को पहला मौका नौशाद ने फिल्म ‘बैजू बावरा’ से दिया था। उन्होंने रफी से कहा था कि इस फिल्म के गानों के बाद तुम सबकी जुबां पर चढ़ोगे। निधन के कुछ देर पहले जो गीत उन्होंने रिकॉर्ड किया था… ‘शाम फिर क्यों उदास है दोस्त, तू कहीं आसपास है दोस्त’, लेकिन ये कोई नहीं जानता था कि ये गाना उनकी ज़िंदगी का आख़िरी गाना होगा।
जिले के संगीत गुरु मनोज अग्रवाल के आवास पर लाइव कार्यक्रम में एकत्रित हुए गायकों ने  रफ़ी जी के नग़मे गाकर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।  कार्यक्रम की शुरुआत संगीत गुरु मनोज अग्रवाल जी  ने गणेशजी की वंदना गाकर की। फिर ‘जो वादा किया वो निभाना पड़ेगा एवं परदा है परदा कव्वाली ‘ पेश किया तो जिले की सुर कोकिला से पहचानी  जाने वाली वंदना गुप्ता ने ‘अजी रूठ कर अब कहा जाइयेगा..,’ बेहद खूबसूरती से गाया। गायक व एंकर सुनील त्रिवेदी जी ने ‘दिल की आवाज भी सुन मेरे फंसाने पे न जा बहुत सुन्दर भाव से पेश किया। फिर ख्याति प्राप्त एंकर ,तबला वादक एवं गायिका स्मृति मिश्रा ने अंखियों में रहने दे, अँखिओ के आस पास व सौ साल पहले हमें तुमसे प्यार था गाकर समा बांध दिया ‘, फिर धर्मेंद्र गुप्ता  ने तेरी गलियों में न रखेगे कदम, आज के बाद पेश की।इसी क्रम में जिले के गायक सुमित श्रीवास्तव भांनु ने ,तुम मुझे यू भूला न पाओगे , एवं बहारों फूल बरसाओ ,गीत गाकर सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। अंतिम चरण में सभी ने मिलकर रफी साहब का भजन शिरडी वाले साईं बाबा,आया है तेरे दर में सवाली गाकर श्रद्धा सुमन अर्पित किये। कार्यक्रम में मुख्य रूप से सुजाता अग्रवाल ,गौरव अग्रवाल एवं नवल किशोर उपस्थित रहे एवं संगत दी एवं सभी कलाकारों का उत्साहवर्धन किया।श्री मनोज अग्रवाल ने बताया कि इस तरह के आयोजन साप्ताहिक एवं मासिक होते रहेगें। प्रभाग के जिलाध्यक्ष सुनील त्रिवेदी ने बताया कि प्रभाग में जल्द ही संगीत व कला से जुड़े लोगों को शामिल किया जायेगा ।

About graminujala_e5wy8i

Check Also

बिलग्राम, उर्स ए जहूरी का तीसरे दिन हुआ समापन

महफ़िल ए सिमा में आये कव्वालों ने समा बांधा जिक्र ए औलिया में मौलाना शम्श …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *