अखिलेश यादव का जिन्ना प्रेम चुनाव आते ही हुआ उजागर-प्रकाश पाल

हरदोई।चुनावी समर में कूदते ही समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव का जिन्ना प्रेम  उजागर हुआ।
बिलग्राम ग्रामीण मंडल कार्यशाला में मुख्य अतिथि प्रदेश उपाध्यक्ष एवं जिला प्रभारी प्रकाश पाल ने कहा कि पिछले दिनों, हरदोई जनपद में हुए कार्यक्रम में आए सपा मुखिया अखिलेश यादव ने विवादित बयान देकर देश विरोधी तत्वों के मनोबल को बढ़ाने का काम किया।चुनाव आते ही अखिलेश का जिन्ना प्रेम हिलोरे मारने लगा है। आखिर ऐसा कौन सा इतिहास उन्होंने पढ़ा, जिसमें जिन्ना को सरदार पटेल की बराबरी करते लिखा गया हो। अखिलेश का यह बयान देशभक्तों के भावना को आहत करती है। उन्हे देश के नागरिकों से माफी मांगनी चाहिए। उनके भाषणों को सुनकर छोटी क्लास के बच्चे मजाक बनाने लगे हैं।चुनाव आते आते कही वह अपनी छवि पप्पू की तरह न बना लें। अखिलेश चुनाव से पहले ही हार मान चुके हैं इसलिए इस तरह के बचकाने और फिजूल के बयान दे रहे हैं। एक पूर्व मुख्यमंत्री इतिहास को तोड़ मरोड़ कर ऐसे हास्यपद बयान देगा तो जनता उसे खाक गद्दी पर बिठाएगी।
जनता समझ रही है कि देश और प्रदेश का अगर कोई विकास कर सकता है तो वह सिर्फ मोदी और योगी ही कर सकते हैं। प्रदेश की जनता ने अखिलेश सरकार के पांच साल कैसे भुगते थे, आज हर व्यक्ति भाजपा शासन को देखकर याद करता है।
भाजपा सरकार ने माफिया राज खत्म कर कानून का राज स्थापित किया।आज नौकरी पेशा से लेकर व्यापारी वर्ग बिना डरे अपना काम कर रहा है। गरीब जरूरतमंदों की सरकार ने राशन की व्यवस्था की, बिना किसी भेदभाव के घर दिए। प्रदेश के जिलों में स्वास्थ्य क्षेत्र को दुरुस्त रखने को मेडिकल कॉलेज बनवाए। अखिलेश यादव ने हास्यापद बयान देकर सरदार पटेल का भी मजाक बनाया जो कि कही से भी उचित नहीं। सरदार पटेल के देश के प्रति समर्पण भाव को भुला नहीं जा सकता। उन्होंने देश को एक सूत्र में पिरोने के लिए बहुत बलिदान दिए। जिन्ना जैसे शख्स जिसने देश का बटवारा करने में कोई कोशिश नही छोड़ी, उस को पटेल के समतुल्य बताना ही सरदार पटेल का अपमान करना है। अगर यही सोच रही तो चुनावों तक अखिलेश देश के राष्ट्र पिता ही न बदल दे।
कार्यशाला में मंडल अध्यक्ष मंडल पदाधिकारी गण, शक्ति केंद्र प्रभारी, संयोजक गण, बूथ कमेटी सदस्य गण मौजूद रहे।

About graminujala_e5wy8i

Check Also

बिलग्राम, उर्स ए जहूरी का तीसरे दिन हुआ समापन

महफ़िल ए सिमा में आये कव्वालों ने समा बांधा जिक्र ए औलिया में मौलाना शम्श …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *