गौमाता की खुराक में भ्रष्टाचार नही होने दूँगा-सुनील शुक्ला

सीएए व एनआरसी का विरोध करने वाले ही कर रहे भूसे की आपूर्ति,बेहद आश्चर्य जनक-सुनील शुक्ला
हरदोई।पूर्व में प्रकाशित एक समाचार पत्र में गौशालाओं से संबंधित एक खबर में बावन निवासी रहीस ने प्रो मालिखान सिंह, शिव इंटरप्राइजेज रायबरेली पर आरोप लगाया था कि वे भूसे की आपूर्ति का पांच लाख रुपया नही दे रहे हैं। जनपद में और लोगो का लाखो रुपया उस फर्म पर बाकी है इसके जिला प्रशासन के नियुक्त अधिकारी व कर्मचरियों की भी मिली भगत है।प्रांतीय पूर्व गौरक्षा प्रमुख विश्व हिन्दू परिषद अवध प्रान्त पूर्व क्षेत्रीय संयोजक गोवंश प्रकोष्ठ भाजपा (अवध क्षेत्र) उप्र सुनील शुक्ला ने बताया कि प्रदेश सरकार के द्धारा करीब 109 गौवंश के लिये गौशालाओं को खोला था। जिससे किसानों की फसल बर्बाद न कर सकें।गोवंश जिसके लिये करोडों रुपया प्रदेश के हर जनपद में भी भेजा गया।हरदोई जनपद में भी जम कर भूसा का घोटाला मामले में आया है। फर्जी चेक और भूसे की पर्ची लगाकर करोड़ो का घोटाला निकलेगा अगर सम्पूर्ण जाँच ठीक से की जाए।चूंकि प्रकरण गौशालाओं से गौमाता से जुड़ा हुआ है इस कारण गौ रक्षा को लेकर हमेशा पूर्व में सक्रिय रहने वाले सुनील शुक्ला ने इस खबर का संज्ञान लिया है। उन्होंने सन्देह जताया कि गायों की खुराक में भ्रष्टाचार किया जा रहा है। सुनील शुक्ला ने कहा, उनकी समझ से परे है कि आखिर कैसे उन लोगो को टेंडर दे दिया गया, जिनकी जाति बिरादरी के लोग खुद ही बड़े पैमाने पर पूर्व में गौकसी में संलिप्त रहे हैं।आपको बताते चलें कि सपा की सरकार में जब नितिन अग्रवाल हरदोई के सपा से मंत्री थे तब लालपालपुर नखासा जो गोमती यादव के नाम से एलाट था लेकिन उसको संचालित उनका बेटा कन्हैया लाल यादव कर रहा था। इस नखासा की आड़ में गौतस्करी का गोरखधंधा चल रहा था। सुनील शुक्ला ने नखासा मालिको पर एफआईआर भी दर्ज कराई लेकिन नखासा मालिको के आका चूंकि सपा की सरकार में शासन सत्ता में थे ,इस कारण उस एफआईआर पर फाइनल लग गई और प्रकरण ठंडे बस्ते में डाल दिया गया था।अन्ततोगत्वा जब सुनील शुक्ला ने एक साल तक निगरानी कराई व मुखबिर लगाए तब जाकर गोवंशों के पैर व मुँह को रस्सियों से बांधकर,गायों से भरा हुआ ट्रक मौके से पुलिस से पकड़वाया ,तब जाकर जिलाधिकारी आनंद द्विवेदी को मजबूर किया, तब मजबूरन नखासा को निरस्त करना पड़ा।ठीक इसी तरह बसपा की सरकार में जब अब्दुल मन्नान संडीला के बसपा सरकार में मंत्री थे तब उन दिनों संडीला में गौकसी चरम पर थी।संडीला का स्लाटर हाउस की भूमि का भूमिपूजन का उद्घाटन मुख्यमंत्रीअखिलेश यादव करने वाले थे,जब सुनील शुक्ला के संज्ञान में आया कि सभी एनओसी स्लाटर हाउस को बनवाने हेतु मिल गई है तब सुनील शुक्ला ने एलान किया था कि स्लाटर हाउस अगर बनेगा तो उनकी लाश पर बनेगा और एक वर्ष तक संघर्ष आंदोलन आमरण अनशन तक किया, जिस कारण स्लाटर हाउस नही बन पाया था जो आज भी अधूरा है।अब राइस मिल लगने लगे।ऐसे ही शाहाबाद से जब आसिफ खा बब्बू बसपा से विधायक थे , तब जिलाधिकारी के राम मोहन राव थे,मझिला के नखासा एवं गौकशी पर नकेल कसी थी।इस दौरान शाहाबाद तहसील में आमरण अनशन भी किया था। ठीक इसी तरह जब दाऊद अहमद पिहानी के विधायक थे तब भी गौकसी चरम पर थी।उस दौरान पुलिस थाने का घेराव किया गया और पुलिस को मजबूरन गौकसी पर नकेल कसनी पड़ी
इन सब मुहिम में सुनील शुक्ला ने लखनऊ में राजभवन एवं प्रदेश कार्यलय भाजपा से लेकर दिल्ली तक दौड़ लगाई थी। इन प्रकरणों को लेकर के समझा जा सकता  कि जो इंसान बेजुबान गौमाता के लिए मौजूदा सरकारों से टकरा गया हो वो गौमाता की खुराक में भ्रष्टाचार करने वालो के साथ कानूनी तौर से दोषियों को सजा दिलाने के लिए किस हद जा सकता है।एक बार फिर जब गायों से जुड़ा हुआ मुद्दा उनके संज्ञान में आया तो फिर से सुनील शुक्ला सक्रिय हुए हैं। उन्होंने अवगत कराया कि उन्हें लगता है कि भूसे की सप्लाई के नाम पर जमकर भृष्टाचार किया गया है गौशालाओं की दुर्दशा व गौवंश की दुर्दशा से संबंधित जिस प्रकार से आये दिन खबरे उन्हें देखने को मिलती है उससे प्रतीत होता है कि गायो के लिए समुचित चारा पानी की व्यवस्था नही हो रही थी और उसके बावजूद लाखों रुपये के भूसे की सप्लाई दर्शाती है कि कागजो पर ही भूसा दे दिया गया और पैसा हड़प लिया गया।सच्चाई क्या है यह तो जांच के बाद ही पता चल पाएगा।उन्हें पूरा यकीन है कि भूसे की सप्लाई के नाम पर बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार हुआ है।इस भ्रष्टाचार में जो लोग भी संलिप्त होंगे उनको हरगिज बख्शा नही जाएगा,वो चाहे भाजपा का पदाधिकारी ही क्यो न हो,साथ साथ उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा का मूल कार्यकर्ता यह पाप नही कर सकता है यह वही लोग हैं जो दूसरे दलों से भाजपा में आकर भाजपा का नाम खराब कर रहे हैं।जिनके घर की महिलाओं ने सीएए व एनआरसी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया हो वह लोग गौशालाओं में भूसे की आपूर्ति कर रहे हैं।बेहद ही आश्चर्य जनक है।सुनील शुक्ला ने अवगत कराया कि जल्द ही सभी सबूतों के साथ जिला प्रशासन एवंभाजपा के शीर्ष नेतृत्व को व संगठन को सभी तथ्यों से अवगत कराएंगे और यह भूसे का ठेका किस प्रकार लिया गया किस प्रक्रिया के तहत लिया गया ,किस गौशालाओं में कितने गोवंश हैं व कितना भूसा खरीदा गया,कितना पेमेंट किस व्यक्ति को या फर्म को दिया गया ,सभी तथ्यों की जानकारी करके जल्द ही संगठन व भाजपा के शीर्ष नेतृत्व को अवगत कराएंगे, लेकिन सर्वप्रथम हरदोई के प्रशासन को शिकायती पत्र सौपेंगे और एक महीने का समय देंगे,  जिला प्रशासन ने अगर निष्पक्ष जांच नही की तो संघर्ष व आंदोलन जिलाधिकारी कार्यालय से लेकर सड़को पर भी समाज को साथ में लेकर किया जायेगा। तत्पश्चात वह शीर्ष नेतृत्व व संगठन को सभी तथ्यों से अवगत कराएंगे।
अगर गोभक्त योगी जी के सपने को किसी ने भी भृष्टाचार किया होगा ,उसको कानूनी रूप से बख्शा नही जाएगा।आवाज मुख्यमंत्री तक ले जाएंगे

About graminujala_e5wy8i

Check Also

13 से 29 अप्रैल के मध्य किया जायेगा निःशुल्क खाद्यान्न वितरण

हरदोई: जिलापूर्ति अधिकारी कमल नयन सिहं ने बताया है कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजनान्तर्गत माह …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *